Free Hindi Sex Story

hindi story sex
दूध वाले की बेटी को जमकर चोदा

मैं आज अपनी ही दूध वाली की बेटी की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ जोकि कुछ महीने पहेली ही खिलकर 

फूल बनी होगी दोस्तों मैं अक्सर ही अपनी दूध वाली अम्मा से तंग रहता था क्यूंकि वो हमेशा से अपने दुष् में किसी 

ना किसी बहाने मुझे पानी मिलाकर दिया करती थी मैं भी फैसला किया की अब मैं उसके इस जुर्म का बदला पक्का 

sexy kahani in hindi

Chhoti Bahan Ki Jabardasti Chudai

लूँगा मैं अक्सर ही दूध लेने अम्मा के पास सबसे पहले पहुँच जाया करता था और अम्मा को दूद निकालते हुए उस 

पर निगरानी रखा करता था इसी बहाने मेरी नज़र एक दिन दूद वाली अम्मा की सबसे बड़ी अमानत पर पड़ी जोकि 

कोई और अनहि बल्कि उसकी की बेटी थी मैंने अब अपना ध्यान सारा का सार अम की बेटी के उप्पर साधते हुए 

उससे पढाई के बारे में बातें करने लगता जिसपर आमा मुझसे देखती तो अपने जस्बातों को ब्यान ना कर पति मेरे 

दिमाक मैं चल रहे बिगडेल इरादों को मेरे अलावा कोई और नहीं जानता था

savita bhabhi ki kahani

मैं अबसे जब भी दूध लेने आया करता तो उसकी बेटी को अपने पास ही बुला लिया आर्ट और उसी के सामने 

उसकी पति से चिपक - चिपक का बातें किया करता अब धीरे - धेरे अम्मा की बेटी से मैं खूब अच्छी तरह घुल - मिल 

xxx hindi kahani

चूका था और यूँ समझ लो उसकी चुदाई करने के लिए भी अपने लंड को अच्छी तरह से तैयार कर चूका था मैं एक 

समय शाम को नीचे अम्मा के घर के पास से ही गुज़र रहा था तो मैंने उसकी बेटी को देखा और ज़ल्दी से किसी 

बहाने उसे अपने साथ आगे को ले आया मैंने जान - बुझ कर पहले उसे कुछ महगी सी चीज़ खिला दि ताकि वो मेरे 

काबू में पूरी तरह से आ जाये मैंने अब फटाफट उसी वहीँ की पास वाले कबाड़खाने के पीछे ले गया और कुछ जादू 

दिखाने के बहाने उसकी टॉप को उतारने लगा जिसपर उसने पहले मुझे टोक दिया

new hindi sex story

मैंने अब हार ना मानते हुए उसके हाथ को पकड़ा और धीमे - धीमे अपनी प्यारी उँगलियों से शेलाने शुरू कर दिया 

जिससे अब व मुझे रोक नहीं पा रही थी अब मैंने उसके होठों को साफ़ करने के बहाने पहले अपने होठों से लगा 

लिया और अचनक से अपने मुंह को फाड़ते हुए उसके होठों को चूसने लगा अब दूद वाली अम्मा की बेटी को मज़ा 

आ रहा था इसीलिए उसने मुझे रोकना मुनासिफ नहीं समझा मैं अब उसकी बेटी के होठों को चूसते हुए उसके चुचों 

xxx hindi story

के उभार पर उंगलियां फिराते हुए चुचों को दबाने लगा जिसपर उसकी ग्राम सासें छूट पड़ी मैंने अब कुछ पल में 

उसे नागी हो जाने को कहा और वो हो भी गयी क्यूंकि उसे सिर्फ मज़ा आ रहा था और आगे होने वाले कांड के बारे में कुछ नहीं पता था

hindisexystory

मैंने अब उसकी चुचों को अपने हाथों में पकड खून निचोड़ा और फिर मुंह में भरकर पीने भी लगा मैंने उसके एक 

टांग को उप्पर के पत्थर पर रख दी और फ़ौरन से अपनी उँगलियों की सहारे उसकी चुत पर थूक लगते हुए उसकी 

चुत में अपने लंड को टिका दिया मैं फ़ौरन ही अपना लंड का धक्का उसकी चुत में उछालते हुए मारा जिसपर उसे 

पहले दर्द हुआ पर बाद में मेरे लंड के धक्कों को चिपककर लेने लगी मैं उस परम आनंद में चूर हो चूका था और 

उस पूरे समय अम्मा की बेटी के चुचों को निचोड़ते हुए उसकी चुत मारता चला गया

 chudai story

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post